Wednesday, 17 September 2014

कर खुद से अपनी पहचान


नारी    तेरी   महिमा   महान
किस विध करूं इसका बखान
.......................................
याद   करो   झाँसी  की  रानी
थी   जोशीली     वो    मर्दानी
बांध   पीठ  पर  अपना  लाल
हुई   राष्ट्र   पर    वो   कुर्बान
…………………………
पहुँची  तुम  भू   से आसमान
कल्पना   की  वो  ऊँची उड़ान
याद   करेगा    तुम्हे    जहान
तुम  में   समाया   तेज महान
…………………………
अबला  नहीं  बलवान हो  तुम
शक्ति  स्वरूप  दुर्गा   हो  तुम
महादेवा   की   शिवा   हो  तुम
कर   खुद  से  अपनी  पहचान
......................................
नारी    तेरी    महिमा    महान
किस  विध करूं इसका बखान

रेखा जोशी