Friday, 27 January 2017

तीन रंग की चुनरी लहराए हवा में

उड़ता जाये आँचल मन भाये हवा में
खिली खिली  बगिया महकाये हवा में
उत्सव आज़ादी का मना रहे सभी
तीन रंग की चुनरी लहराये हवा में

रेखा जोशी