Thursday, 26 January 2017


याद तेरी हमें आज आने लगी 
मधुर स्वर में ज़िन्दगी गाने लगी
....

चाँद ने ली आज अंगड़ाई सजन 
चाँदनी अब  यहाँ मुस्कुराने  लगी 
.... 
रात काली यहाँ  बिन सजन प्यार के 
दीप की रोशनी जगमगाने लगी 
.... 
नाम लेकर पुकारें नज़ारे यहाँ 
अब पवन भी हमें तो बुलाने लगी 
.... 
थाम लो  हाथ तुम अब हमारा सजन 
प्रीत भी गीत अब गुनगुनाने लगी 

रेखा जोशी