Friday, 6 January 2017

काश प्रियतम रहें संग हम तुम

चाँद  तारे  सजायें   गगन को 
फूल महका रहे  अब  पवन को 
काश प्रियतम रहें संग हम तुम 
बात  कैसे  कहें  हम सजन को 

रेखा जोशी