Wednesday, 20 February 2013

तुम ही तुम

तुम ही तुम

महक उठती  है तमन्नाए दिल की 
जब गुजरते हो इन गलियों से तुम 
..............................................
खिल उठते है यह तन्हाई के लम्हे 
यादों में हमारी जब गुजरते हो तुम 
बहारे सकून की छा जाती हर ओर 
ख्यालों में हमारे जब आते हो तुम 
............................................
खिल उठती है बगिया मेरे दिल की 
जब गुनगुनाती मै तुम्हारे वह गीत 
सहेज रखी है अब तलक वही यादे
समाये हो जिसमे सिर्फ तुम ही तुम 
...............................................
महक उठती  है तमन्नाए दिल की 
जब गुजरते हो इन गलियों से तुम