Friday, 22 February 2013

जल रहा है भारत आग में


जल  रहा है भारत आग में ,आवाज़ यही है आती ,
मुट्ठी भर अंगारों से अब ,धरा भी दहल है जाती ,
 जला कश्मीर असम है जला,हमारे देश के वासी ,
नक्सलियों की चली गोलियां ,मरते है भारत वासी
...................................................................
काँप उठती है जमीन यहाँ की,जब आतंकी धमाकों से .
खून से लथपथ जिस्म कटे यहाँ वहां,अपने ही भाइयों के
उजड़े सुहाग ,चिराग बुझे ,अनाथ हुए ,हुए बर्बाद अनेक
घर में जिनके जले न चूल्हे, कौन पोंछेगा आंसू यं सब के
......................................................................
बिक रहा ईमान यहाँ पर , है झूठ का बोलबाला ,
खून खौलता है ममता का ,जब जलती उसकी बाला ,
.धर्म नपुंसक बना देखता ,है भूल चुका  मर्यादा ,
जला देगा देख बेशर्मी ,यह मुट्ठी भर अंगारा .