Tuesday, 5 January 2016

ह्रदय में प्रेम की जोत जला कर

सरिता तट  शीतल पवन भाये
धूप   गुलाबी  तन  मन  हर्षाये
ह्रदय में प्रेम की जोत जला कर
साथ मिल दोनों जीवन बितायें

रेखा जोशी