Sunday, 3 July 2016

है पैसे की भी चमक निराली

रहती  कभी  उनकी जेब खाली
किस्मत ने ऐसी  निगाह  डाली
बदल गये फिर उनके हाव भाव
है  पैसे  की  भी चमक  निराली

रेखा जोशी