Saturday, 2 July 2016


श्याम  आओ हमारे द्वार 
राह  बैठी पथ रही  निहार 
... 
हाथ बढ़ा कर उठाओ हमें 
नाव  डोले  बीच  मझधार 
... 
जगत के हो रखवाले आप
लगा दो अब तो बेड़ा  पार 
.... 
नहीं कोई हमारा तुम बिन 
सुनो भगवन हमारी पुकार 
.... 
हाथ जोड़ हम करें वंदना 
करो प्रभु अब हम पर उपकार 

रेखा जोशी