Wednesday, 27 July 2016

श्रम ही हमारी ज़िन्दगी

 मिलकर चलते  सुबह शाम
चलते  रहते   सुबह   शाम 
श्रम   ही    हमारी  ज़िन्दगी
नहीं   रुकते   सुबह   शाम

रेखा जोशी