Monday, 10 February 2014

चहकने लगी बुलबुल अब दिल की

आ गई  बहार जो आये हो तुम
चहकने लगी बुलबुल अब दिल की
...................................................................
फूलों पर भंवरे   लगे मंडराने
लगी शर्माने कलियाँ  गुलशन की
....................................................................
तरसती  निगाहें तुम्हे देखने को
भूल गये अचानक वो राहें इधर की
......................................................................
मुद्दते हो चुकी थी देखे हुए उनको
उसी ने खुशियों से मेरी झोली भर दी
.......................................................................
खुशिया ही खुशिया बनी रहे दिल में
महकती रहे बगिया मेरे आंगन की
........................................................................
आ गई  बहार जो आये हो तुम
चहकने लगी बुलबुल अब दिल की


रेखा जोशी