Sunday, 25 January 2015

आंच न देंगे आने कभी आज़ादी पे हम

सीमा  पर   सेनानी   लड़ने  को  तैयार  है
शान  तिरंगे  की  हम  रखने  को  तैयार है
आंच न  देंगे  आने  कभी आज़ादी  पे  हम
देश  के  लिये हम  मर मिटने को तैयार है

रेखा जोशी