Sunday, 10 April 2016

जब नाम रोशन होगा तेरा

संग संग तेरे
मेरी माँ
रात भर मै सोई नहीं
तकिए पे गिरते आँसू तेरे
भिगो गये  तन मन मेरा
अपनों के ताने सुन सुन
ज़ख़्मी हुआ
आज हम दोनों का मन
मत सुन उनकी आवाज़
मार मुझे कोख में अपनी
मत देना खुद को सज़ा
सुन पुकार तू
धड़कन की मेरी
हूँ बंधी मै
तेरे प्यार की डोर से
कोख तेरी से
गोद  तेरी में
आने को मचल रही मै
नहीं चाहती मरना मै
देख लेना
आते ही संसार में मेरे
महक उठेगा अँगना तेरा
गर्व होगा मुझ पर तुम्हे
जब नाम रोशन होगा तेरा
जब नाम रोशन  होगा तेरा

रेखा जोशी