Wednesday, 27 April 2016

दो जिस्म मगर हैं इक जान हम तुम

दो जिस्म मगर हैं इक जान हम तुम
कैसे   रह   पायें  अनजान   हम  तुम
आओ   करते   मिल  प्यार की  बाते
है  इक  दूजे  की  पहचान   हम  तुम

रेखा जोशी