Tuesday, 19 April 2016

रंगीन छटा बिखेरे शीतल चले बयार

है सुमन पर  भँवरा डोले   चहुँ  ओर   बहार
रंगीन  छटा    बिखेरे    शीतल  चले  बयार
उत्सव मनाती तितलियाँ मस्त  रही इतरा 
उपवन  में  फूल  खिलते महक  उठा संसार   

रेखा जोशी