Saturday, 30 April 2016

साथ रहना तुम कभी मत छोड़ना जानम आज


अब सिमटते है उजाले थाम कर आँचल  आज
फिर सुबह आती नई खुशियाँ लिये दामन आज
………………
देख तेरे नैन हम उसमे समा कर रह गये
बाँध कर तुमने हमें क्यों कर रखा साजन आज 
………………
तुम हमे क्यों कर सताते हो सदा यूँ ही सनम
छोड़ कर गर चल दिये आये न हम  बालम आज
………………
रात के साये हमें रह रह डराते है सनम
साथ रहना  तुम कभी मत छोड़ना जानम आज
…………… …
रात फिर से  डूब जाये गी अँधेरे में सनम
चाह जीवन में उजालों की हमे प्रियतम आज

रेखा जोशी