Thursday, 11 May 2017

चाँदनी की छटा मतवारी है

फ़ूलों से सजी आज क्यारी है
अँगना खिली आज फुलवारी है
,
है आये  अँगना  पिया हमारे
चाँदनी की छटा मतवारी है
,
नाचते झूम झूम मोर बगिया
कुहुके कोयल डारी डारी है
,
गुन गुन गुंजित भँवरे फूलों पर
चूमते  सुमन   बारी बारी है
,
छाई मदहोशी चहुँ ओर आज
धड़कन बस में नहीं हमारी है

रेखा जोशी