Saturday, 17 June 2017

सभी वो तोड़ बन्धन अब उड़े हैं आसमानों में
परिंदे कब रहा करते हैं हर दम आशियानों में
...
न रोको तुम न बांधों आज ज़ंजीरें यहाँ पर तुम
रहेंगे कब तलक छुप कर परिंदे इन मकानों में
....
कहीं तुम दूर उड़ जाना बसा लेना नया घर फिर
न रोकेंगे चले जाना नयें अपने ठिकानों में
....
न भरना आँख में आँसू न मुड़ कर देखना हम को
चले जाना यहाँ से दूर खोये तुम उड़ानों में
....
सदा तेरे लिये हमने खुदा से प्यार ही माँगा
करेंगे याद हम तुमको सदा अपने फसानों में

रेखा जोशी