Friday, 9 June 2017

धरतीपुत्र

धरा  से    सोना उगाता
है   धरतीपुत्र   कहलाता
भर कर सबका पेट कृषक
वह खुद भूखा सो जाता

रेखा जोशी