Sunday, 8 September 2013

गणेश वन्दना

 गणेश वन्दना 


सुन कर अब पुकार मेरी
तुम जल्दी से आ जाओ
कहाँ छुपे हो ओ मेरे प्रभु
दरस अपना दिखा जाओ
………………………
पार लगा दीजो नैया मेरी
डगमगा रही बीच मझधार
सहारा अब तेरा ही पा कर
मिले चैन  मेरे इस मन को
………………………।
मुश्किल है राहें  मेरी मगर
तुम हो भक्तों के रखवाले
हर पल रहते हो साथ मेरे
विघ्नहर्ता विघ्न हरो सबके

गणेश चतुर्थी की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें

रेखा जोशी