Monday, 23 September 2013

कृष्ण कन्हैया

देवकीनंदन कृष्ण कन्हैया सब का प्यारा था 
राधिका का मोहन तो गोपियों का भी दुलारा था 
नाम तेरे से पिया मीरा ने विष का प्याला भी 
ममतामयी यशोदा की वह आँखों का तारा था 

रेखा जोशी