Sunday, 29 September 2013

बेकरार है हम

कुछ तो बात है बेकरार है हम
यह गम कौन सा बेशुमार है गम

है वो शाख हम न खिले फूल जहाँ
न कभी खत्म हो इंतज़ार है हम

वो पत्थरों में जो रही गूँजती
न सुनी गई वह पुकार है हम

कोई हमे अब याद करे तो क्यूँ
भूली बात है इक मजार है हम

प्रो महेन्द्र जोशी