Thursday, 1 May 2014

जीवन मृत्यु

जीवन मृत्यु
ज़िंदगी के दो पहलू
दो रूप
एक ही सिक्के के
आज जीवन
तो
कल मृत्यु
लुप्त
हो जाती
न जाने कहाँ
छोड़ जड़ को
चेतना कहीं
लेकिन
वह पल
वह हसीं लम्हे
कभी
गुज़रे थे जो
साथ
दे जाते
इक टीस और 
कुछ महकती हुई
यादें
जीवन भर के लिए

रेखा जोशी