Friday, 2 May 2014

श्रम दिवस पर


मज़दूर  हूँ मेहनत  कर  पेट  भरता हूँ 
बह  जाये  खून  पसीना  नहीं डरता हूँ
श्रम सदा करना ही कर्म और धर्म मेरा 
संघर्ष इस जीवन में हर रोज़  करता हूँ 

रेखा जोशी