Saturday, 3 May 2014

बेवफा है दुनिया

ख़ुदग़रज़ दोस्तों पे तुम जान अपनी निसार न करो 
बेवफा  है  दुनिया  किसी का  यहाँ  ऐतबार  न करो 
झूठ  और फरेब  जिन लोगों की फितरत में  है सदा  
उन लोगों से तुम  वफ़ा का कभी भी इज़हार न करो 

रेखा जोशी