Tuesday, 3 October 2017

है खिल खिल गए उपवन कहते संसार


है खिल खिल गये उपवन महकाते संसार
फूलों  से  लदे  गुच्छे   लहराते  डार   डार
सज रही रँग बिरँगी पुष्पित सुंदर  वाटिका
भँवरें  अब   पुष्पों  पर  मंडराते  बार  बार

रेखा जोशी