Monday, 30 October 2017

क्या रिश्ता था तुमसे

क्या रिश्ता था तुमसे
एक पड़ोसी ही तो थे तुम
लेकिन
माँ की आवाज़ सुनते ही
भाग आते थे घर हमारे
कभी तरकारी कभी दही
भाग भाग कर लाते थे तुम
और माँ भी न
झट से बुला लेती थी तुम्हें
कोई काम हो
नहीं पूरा होता बिन तुम्हारे
आखिर
क्या रिश्ता था तुमसे
एक बेनाम रिश्ता
फिर भी इतना अपनापन
नहीं नहीं
न होते हुए भी
रिश्ता था तुमसे
आखिर
खून का रिश्ता न होते हुए भी
रक्षाबंधन पर
एक अनमोल रिश्ते में
बाँध लिया तुम्हें
कलाई पर तुम्हारी
नेह की डोर से
एक बेनाम रिश्ते को
नाम दे कर
निभा रहे हो जिसे तुम
अब तक

रेखा जोशी