Sunday, 29 October 2017

बेनाम रिश्ता


रिश्ता तेरा मेरा
है कुछ अजीब सा
अरसा हुआ बिछड़े हुए
लेकिन
रहा आज तक
बेनाम
चाह थी मेरी उसे
इक नाम दूं
प्यार या फिर दोस्ती का
देखो तो विडम्बना
न रहा प्यार न दोस्ती
गुम हो गये कहीं हम
अतीत की गहरे कोहरे में
न कोई अपनापन
न उसका एहसास
सर्द ठंडे बेनाम रिश्ते में
शायद थी कोई चिंगारी
जो तुम याद आये
थी कोई नेह की डोर
बाँध रखा है जिसने
हमारे बेनाम रिश्ते को

रेखा जोशी