Wednesday, 11 February 2015

कर न दे कहीं जला कर यह दिल को राख

महक  अपनी   से  हमे  लुभाते   है  फूल
मत   कर  प्यार  खार  भी चुभाते है फूल
कर न दे कहीं जला कर यह दिल को राख
कभी  कभी  आग  भी   बरसाते  है  फूल
रेखा जोशी