Thursday, 10 March 2016

ज़िंदगी तुम बहार बन आओ



प्यार में गीत गुनगुनाते है 
आज साजन  हमे  रिझाते है 
... 
ज़िंदगी तुम  बहार बन आओ 
याद पल वह हसीन  आते है 
.... 
आशिकाना हुआ यहाँ  मौसम 
यह  नज़ारे  हमे  बुलाते  हैं 
.... 
आज छुप कर पिया चले आओ 
प्यार दिल में सजन बसाते है 
... 
मिल गया प्यार ज़िंदगी में जब  
प्रीत अपनी सदा निभाते है 

रेखा जोशी