Sunday, 27 March 2016

मन में विश्वास लिये ढूँढ रहे पागल नैना


जाने  कहाँ   चले  गये   सजन   मै   भई  उदास
ऐसे  में    मिला  न  मोहे   कहीं से भी     दिलास
मन   में   विश्वास   लिये  ढूँढ   रहे  पागल  नैना
आनन फानन निकल पड़ी पिया मिलन की आस

रेखा जोशी