Friday, 4 March 2016

बिखर कर खिलते फिर बाग़ में फूल


हुई   शाम आज रहा दिन ढल  यहाँ 
जी  उठेगी  ज़िंदगी  फिर  कल यहाँ 
बिखर कर खिलते फिर बाग़ में फूल 
चलता  रहता  जीवन  अविरल यहाँ

रेखा  जोशी