Monday, 8 August 2016

वर्ण पिरामिड

ये
कैसा
सावन
आया पिया
आये न तुम
तड़पे जियरा
बिन तेरे सजन
...
लो
अब  
थाम के
संग संग  
हाथ में हाथ
काट लेंगे हम
जीवन का सफर

रेखा जोशी