Tuesday, 9 August 2016

ओस की बूंदें

बूँद टपकी
भीगे मेरे नयन
उम्मीद छूटी
....
ओस की बूंदें
पत्तों पर चमकें
रो रही रातें

रेखा जोशी