Monday, 29 August 2016

चांदनी रात है कहाँ हो तुम


शौक से आप दिल यहाँ रखिए 
प्यार में आप बस वफा रखिए

...
चाँद भी आज ढूँढता तुम को 
रात तेरे लिए सजा  रखिए
....
बात दिल की किसे बताए हम
दर्द दिल मे सदा छुपा रखिए
....
साथ तेरा हमें मिला साजन 
आस से यूँ  भरा जहाँ रखिए 
... 
चांदनी रात है कहाँ हो तुम 
खूबसूरत यहाँ फ़िज़ा  रखिए 

रेखा जोशी