Friday, 15 August 2014

महक उठी आज तमन्नाऐं दिल की


महक उठी आज तमन्नाऐं दिल की 
गुजरे हो जब से  इन गलियों से तुम 
..............................................
खिल उठे तन्हाई के हसीन लम्हे 
यादों में हमारी जब गुजरते  तुम 
बहारे सकून की छा जाती हर ओर 
ख्यालों में हमारे जब आते हो तुम 
............................................
खिल उठती है बगिया मेरे दिल की 
जब गुनगुनाती मै तुम्हारे वह गीत 
सहेज रखी है अब तलक वही यादे
समाये हो जिसमे सिर्फ तुम ही तुम 
...............................................
महक उठी आज तमन्नाऐं दिल की 
गुजरे हो जब से  इन गलियों से तुम 

रेखा जोशी