Sunday, 16 August 2015

घिर घिर आये बदरा उड़ता जाये आँचल

भीगा भीगा  मौसम यहाँ  भीगी सी रात 
पिया  है   परदेस  कैसे  होगी  मुलाकात 
घिर घिर आये बदरा उड़ता जाये आँचल 
भीगे  से  अरमान   ले कर आई  बरसात

रेखा जोशी