Thursday, 6 August 2015

कौन है अपना कर रहा जो इंतज़ार

है छुपी ज़िंदगी
मेरी
घने कोहरे में
नही दिखाई देता
आर पार
उसके
मालूम नही
कौन है अपना
कर रहा जो इंतज़ार
मेरा
नैन बिछाये राहों में
मेरी
है साकार वो
कल्पनाओं में
मेरी
ढूँढ रही उसे आँखे
मेरी
धुंध के उस पार

रेखा जोशी