Tuesday, 24 March 2015

टूट पड़ी बन ज़ुल्म ओ कहर हम पे ज़िंदगी

बहुत जी चुके शाम ओ सहर  हम  ये ज़िंदगी
पाया  न  चैन कभी  दो  पहर  हम ने  ज़िंदगी
दोस्तों  बदल  दिये  मायने  यहाँ  ज़िंदगी  ने 
टूट  पड़ी बन  ज़ुल्म ओ कहर हम पे  ज़िंदगी

रेखा जोशी