Thursday, 26 March 2015

हमारे साथ है साया हमारा

वक्त ने साथ अब छोड़ा हमारा 
हमारे साथ है साया हमारा 
… 
हमें मिलनी जुदाई थी सजन जब 
खत्म है अब सनम किस्सा हमारा 
.... 
चले थे हम  सफर में साथ दोनो 
कटेगा   याद  में   रस्ता  हमारा 
…… 
सहर ओ शाम हम तुम को  पुकारें 
रहेगा दिल  सदा  तन्हा हमारा 
....... 
सजन देखो डूब कर प्यार में तुम 
बहुत बढ़िया लगे दरिया  हमारा 

रेखा जोशी