Tuesday, 13 September 2016

मिलाया हम सभी को कुदरत ने

है  वाकिफ  हम तेरी फितरत से
मत बोना कभी  बीज नफरत के
नहीं  चाहते  हम  तुम को  खोना
मिलाया हम सभी  को कुदरत ने
.....
सदा प्रीत अपने दिल से निभाना
धोखा नही  कभी  प्यार  में खाना
चलो  इक  दूजे  में  खो जाये  हम
है  इक  दूजे  को  अब  हमे  पाना
....
रेखा जोशी