Saturday, 17 September 2016

हो रही बेकरार अब , ख़ुशी की हर लहर

करते प्यार सजन तुम्हे , खुलते नहीं अधर 
तुमसे मै  कैसे कहें  ,जीना अब  दूभर
....
हाथ पकड़ कर हम चलें ,दोनों संग संग
ज़िन्दगी का सजन  बने ,सुहाना फिर  सफर
....
ज़िन्दगी मिल गई सजन ,हमें मिले जो तुम
हो रही बेकरार अब , ख़ुशी की हर लहर
....
महकती  हर कली कली,खिले  अँगना फूल
बाग़ में भँवर गूँजते,  पँछी उड़े  अम्बर 
..... 
देख लिया  सारा जहाँ मिले न हमको तुम 
छुपे हो सजन तुम कहाँ ,ढूंढी  हर डगर 
.... 
चाहत मेरी तुम सजन , तुम्ही हो ज़िन्दगी 
सब सूना तेरे बिना ,सूना अपना घर 

रेखा जोशी