Wednesday, 21 September 2016

रहता वह साथ मेरे शाम ओ सहर

ख्यालों को मेरे वह महका रहा है
दूर हो कर भी वह पास आ रहा है
रहता वह साथ  मेरे शाम ओ सहर
तन्हाईयों  को  मेरी  सजा  रहा है

रेखा जोशी