Tuesday, 27 September 2016

जमीं रोयी गगन रोया जो' हरकत की पड़ोसी ने

पड़ोसी  ने  यहाँ  घोंटा  गला  इंसानियत   का है
किया नापाक उसने  कर्म वह खोटी नियत का है
जमीं रोयी गगन रोया जो' हरकत की पड़ोसी ने
दिया  है  आज  उसने  दर्द  वह  हैवानियत का है

रेखा जोशी