Wednesday, 1 February 2017

उड़ेंगी उमंगे छू लेंगी आसमान

उड़ायें गे पतंग लिये हाथ में डोर
मुस्कुराया बसन्त गली गली में शोर
उड़ें गी उमंगे  छू लेंगी आसमान
लहरायें गगन में चले न कोई ज़ोर

रेखा जोशी