Tuesday, 7 February 2017

जियेंगे मरेंगे हम देश की खातिर


बहुत देखे हमने परिधान विदेशी
है  पहनते  हम  पहनावा स्वदेशी
,
दूर देश समुन्दर पार घूम आये
है  ह्रदय  हमारे समाया स्वदेशी
,
भांति भांति के हमने खाये व्यंजन
भोजन हमें घर का भाया स्वदेशी
,
जियेंगे  मरेंगे हम देश की खातिर
गगन  में तिरंगा लहराया स्वदेशी
,
करें हम सलाम उन वीर जवानों को
है खून  जिन्होंने  बहाया  स्वदेशी

रेखा जोशी