Monday, 13 February 2017

इक हवा का झोंका सा था सजन प्यार हमारा

जिंन्दगी के हर मोड़ पर हम चले थे हमसफर
छोड़ कर तुम हमें अकेला अब चले गये किधर
विरह की यह पीर अब साजन किसे हम बताये
कोई नही अब संगी साथी सूनी  ये डगर

रेखा  जोशी