Monday, 27 February 2017

गोकुल में मुरली  मधुर बजाये  कान्हा
है  गोपियों   के संग रास रचायें कान्हा
धुन  मुरली की सुन बाँवरी  हुई   राधा
देख सूरत मन्द मन्द मुस्काये कान्हा

रेखा जोशी