Sunday, 13 September 2015

यह जलन तेरी राख कर देगी जला कर तुम्हे


 प्रेम  का  दीप  जलाओ  जब किसी से मिलते तुम
जलाओ मत  जिया देख कर किसी को फलते तुम
यह  जलन  तेरी  राख  कर  देगी  जला  कर  तुम्हे
हर्षा  लो  मन  देख  बगिया  में  फूल  खिलते  तुम

रेखा जोशी