Monday, 14 September 2015

करो तुम मेरा सम्मान हूँ मै भारत की शान

हुआ जख्मी
तन मन मेरा
गाते जब भारतवासी
अंग्रेजी के तराने
अपने ही देशवासियों ने
बना दिया मुझे
गरीबों की भाषा
ग्रस्त किया मुझे
हीन भावना से उन्होंने
उड़ाया उपहास मेरा
बड़े बड़े कार्यालयों में
भूल गये इतिहास तुम
था बाँधा  मैने सबको
आज़ादी  की लड़ाई में
उठाया है  ऊपर  मुझे
साहित्यकारों की कहानियों ने
करो तुम मेरा सम्मान
हूँ मै भारत की शान
हिन्द के माथे की हूँ बिंदी
नाम  मेरा है हिंदी

रेखा जोशी